राजगढ़

साइबर फ्रॉड करने वाले गिरोह का पर्दाफाश - फर्जी दस्तावेजों के आधार पर प्रधान मंत्री मुद्रा लोन दिलाने का झांसा देकर ठगी करने वालों को किया गिरफ्तार*         जानकारी का अभाव बना ठगी का कारण।

राजगढ़

थाना कुरावर जिला राजगढ़

                डिजिटल इंडिया के तहत जहां एक ओर जन सामान्य को ऑनलाइन बैंकिंग एवं मोबाइल के माध्यम से पैसों का लेनदेन करने हेतु तरह तरह से शासन द्वारा समझाइश दी जा रही है वहीं जानकारी के अभाव में कुछ लोग ठगों के प्रलोभन में आकर नुकसान उठा बैठते हैं और उनकी गाढ़ी कमाई उनसे छीन ली जाती है।  

               जिले के कुरावर थाना क्षेत्र अंतर्गत ऐसे ही एक गिरोह द्वारा क्षेत्र के कुछ लोगों को प्रधानमंत्री मुद्रा लोन के तहत पांच पांच लाख का लोन दिलाने के नाम पर उनके साथ ठगी की घटना की गई गिरोह के सदस्यों द्वारा फर्जी आधारकार्ड के आधार पर फर्जी बैंक अकाउन्ट खोलकर साथ ही फर्जी तरीके से मोवाईल सिम प्राप्त कर लोन दिलाने के नाम पर फरियादी के साथ धोखाधडी की गई वहीं पुलिस टीम ने गिरोह के 3 सदस्यों को गिरफ्तार करने में एक बहुत बड़ी सफलता अर्जित की है। 

             दिनांक 01-03-21 को फरियादी बलराम पंवार पिता जगदीश प्रसाद जाति बागरी निवासी जीन मोहल्ला कुरावर ने थाना पहुंचकर सूचना दी की  कोमल सेन, राघव ठाकुर, पवन पाटीदार व मनोज कुशवाहा इन चारों ने मिलकर प्रधान मंत्री मुद्रा लोन के तहत पांच पांच लाख रूपये दिलाने के नाम पर लोन की प्रोसेस के लिए राघव ठाकुर नाम से एक्सिस बैंक के खाता क्रमांक 919010082783987 में एक लाख पैतीस हजार रूपये का आहरण करवा लिया साथ ही बार बार पूछने पर लोन प्रोसेस में होना बताकर सैतीस हजार छ सौ रूपये की और मांग की गई, शंका होने पर मांगे हुए पैसे जमा नहीं किए जाने पर उनके द्वारा मोवाईल बंद कर लिये गये, इस प्रकार उसके साथ धोखाधड़ी को अंजाम दिया गया फरियादी की रिपोर्ट पर थाना कुरावर में अपराध क्र 84/2021 धारा 420 भादवि के तहत पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। 

           पुलिस अधीक्षक राजगढ़ श्री प्रदीप शर्मा द्वारा धोखा धड़ी कर पैसे ऐठने वालो पर कड़ी कार्यवाही हेतु जिले में चलाए जा रहे अभियान के तहत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री मनकामना प्रसाद एवं अनुविभागीय अधिकारी पुलिस अनुभाग नरसिंहगढ़ श्री भारतेन्दु शर्मा के मार्ग दर्शन में टीम बना कर आरोपीगणो की तलाश की गई। आरोपी गणों की तलाश के दौरान पाया गया कि आरोपी दुर्गा प्रसाद उर्फ दुर्गेश विश्वकर्मा, घनश्याम भिलाला, जगदीश नागर सर्व निवासी कलाली द्वारा आरोपी घनश्याम भिलाला के आधार कार्ड में संशोधन करवा कर फर्जी तरीके से मोबाईल के माध्यम से घनश्याम भिलाला के स्थान पर काल्पनिक नाम राघव ठाकुर पिता दुर्गा प्रसाद निवासी शाजापुर नाम से तैयार कर फर्जी आधार कार्ड से सिम नम्बर 911x x x1626 प्राप्त कर उक्त आधार कार्ड का का उपयोग कर एक्सिस बैंक उज्जैन में खाता क्रमांक 91901008278x x x x खुलाया जाकर कोमल सेन पति राधेश्याम निवासी पोलाय कला, पवन पाटीदार पिता राधेश्याम पाटीदार निवासी एकलेरा व मनोज कुशवाह को प्रधान मंत्री मुद्रा लोन का लालच देकर मतदाता परिचय पत्र, आधार कार्ड प्राप्त कर उनके नाम का उपयोग कर फरियादी बलराम को झासा देकर क्योस्क मनी ट्रास्फर के माध्यम से 01 लाख 35 हजार रूपये फर्जी तरिके से खोले गये खाते में डलवाये गए, वही मामले में अग्रिम विवेचना करते हुए साइबर सेल की मदद ली गई और आरोपीगणो की जानकारी साईवर सेल राजगढ़ के माध्यम से प्राप्त कर उक्त सभी फर्जी सिम उज्जैन से लेना पाया गया। 

           जानकारी के आधार पर आरोपी जगदीश नागर पिता भंवरलाल नागर  निवासी कलाली की तलाश कर उसे गिरफ्तार किया गया एवं उसकी ही निशानदेही पर आरोपी दुर्गा प्रसाद उर्फ दुर्गेश पिता गंगाधर विश्वकर्मा, घनश्याम भिलाला पिता मांगीलाल भिलाला सर्व निवासी कलाली को भी गिरफ्तार करने में सफलता हासिल हुई जिन्होंने साथ मिलकर घटना करना स्वीकार किया। 

             आरोपी दुर्गा प्रसाद से एक एक्सेस बैंक का उपयोग किया गया एटीएम एवं नगदी 15 हजार रुपए,  घनश्याम भिलाला से मूल आधार कार्ड एवं जगदीश नागर से मूल आधारकार्ड व मतदाता परिचय पत्र विधिवत जप्त किये गये। आरोपी दुर्गा प्रसाद ऊर्फ दुर्गेश द्वारा उज्जैन मे करीब 02 साल से रहकर भौगोलिक जानकारी प्राप्त कर  आरोपीगणो द्वारा फर्जी तरीके से आधार कार्ड तैयार करना, फर्जी नाम से मोवाईल प्राप्त करना व खाता खोलना पाया जाने से प्रकरण में धारा 467, 468, 471 भादवि का इजाफा किया गया है,  साथ ही तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया गया है। 

            उक्त प्रकरण का खुलासा कर आरोपियो को गिरफ्तार करने में विशेष भूमिका थाना प्रभारी उप निरीक्षक रामनरेश राठौर, उनि बब्बन ठाकुर, सहा उप निरी एम.एस. कुम्भकार, प्रआर 478 वीरेन्द्र मोर्य, आर संदीप विश्वकर्मा, आर मुकेश मीणा, म आर पूजा मालवीय, साइवर सेल से आर शंशाक सिंह यादव, आर रवि कुशवाहा सहित आ. प्रताप सिंह व आर भोपाल सिंह की रही।