none

आईएनएक्स मीडिया / सुप्रीम कोर्ट ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में चिदंबरम की जमानत पर फैसला सुरक्षित रखा

none

नई दिल्ली. आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कांग्रेस नेता पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया। कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को मामले से संबंधित संबंधित सभी दस्तावेज सीलबंद लिफाफे में पेश करने को कहा, जिन्हें जांच एजेंसी आधिकारिक तौर पर अदालत के सामने रखना चाहती है।

सुप्रीम कोर्ट में ईडी की पैरवी कर रहे सॉलिसिटर जनरल (एसजी) तुषार मेहता ने कहा कि चिदंबरम हिरासत में रहने के बावजूद, केस से संबंधित अहम गवाहों को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। इस पर चिदंबरम की तरफ से पेश वकील कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि उनके पक्षकार के खिलाफ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से ऐसा कोई सबूत नहीं है, जो यह साबित करता हो कि उन्होंने किसी गवाह को प्रभावित किया हो या सबूतों के साथ छेड़छाड़ की हो।

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद बेंच ने फैसला सुरक्षित रखा

दोनों पक्षों की तरफ से दलीले सुनने के बाद, जस्टिस आर भानुमति की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने चिदंबरम की जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया। सुप्रीम कोर्ट चिदंबरम की उस अपील पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें उन्होंने अपनी जमानत रद्द करने के दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी थी।

चिदंबरम के खिलाफ ईडी और सीबीआई के 2 केस

चिदंबरम पर आईएनएक्स मीडिया घोटाले में मुख्य भूमिका निभाने का आरोप है। ईडी और सीबीआई अलग-अलग मामलों में उनके खिलाफ जांच कर रही है। सुप्रीम कोर्ट ने 22 अक्टूबर को उन्हें भ्रष्टाचार मामले में जमानत दे दी थी। ईडी केस में जमानत ने मिल पाने के चलते वे तिहाड़ जेल में बंद हैं। चिदंबरम को 21 अगस्त को सीबीआई ने उनके घर से गिरफ्तार किया था।